KYC Kya Hota Hai? और हमारे लिए KYC क्यू जरुरी होता है – जानिए KYC से जुडी सारी जानकारी हिंदी में!

आज हम आपको एक बहुत ही अच्छे Topic के बारे में बताएँगे जिसका नाम है- KYC आज हम आपको बताएंगे KYC क्या होता है| और हमारे लिए KYC क्यू जरुरी होता है| आप KYC का नाम तो आप सब ने सुना ही होगा क्योंकि आज बैंक में खाता खोलने के अलावा लोन लेने, लॉकर लेने Credit Card बनवाने Mutual Fund खरीदने में , पोस्ट ऑफिस तथा बीमा आदि लेने पर KYC फॉर्म भरने की आवश्यकता पड़ती है इन सबके अलावा अगर आप कोई सिम Card लेते है तो भी आपको अब KYC कराना परता है|

आपको बता दे की बैंक में लेनदेन के लिए खाता खुलवाने के लिए KYC फॉर्म भरना बहुत जरुरी होता है भारतीय रिज़र्व बैंक के द्वारा सभी बैंकों के लिए ग्राहकों से KYC फार्म भरवाना अनिवार्य किया गया है|

KYC क्यू जरुरी है ये हर जगह अनिवार्य क्यों किया गया है, आखिर ये KYC का मतलब क्या होता है| दोस्तों हमारा आज का ये पोस्ट KYC के उपर ही है आज हम आपको KYC का Full Form बताने के साथ साथ KYC की पूरी जानकारी बताएंगे इसलिए आपलोग इस पोस्ट को सुरु से अंत तक जरूर पढ़े ताके आपको अच्छे से समझ में आ जाये तो चलिए आगे बढ़ते है और जानते है KYC की पूरी जानकारी हिंदी में|

KYC Kya Hai

आपको बता दे की KYC वित्तिय क्षेत्र में बहुत लोकप्रिय Term है जो आज के युग में बहुत जरुरी साबित हो रही है, KYC का इस्तेमाल वित्तिय संस्थाएँ (Financial Institutions) अपने ग्राहक की पहचान सत्यापित (Identity Verified) करने के लिए कराती है|

बैंक में अपना बीमा करवाने में कम्पनी आदि संस्थाएँ ग्राहकों को अपनी सेवाएँ देने से पहले उसकी पहचान (Verification) करना चाहती है, इस प्रक्रिया के लिए ये संस्थाएँ KYC का इस्तेमाल करती है KYC के द्वारा ये ग्राहक की पहचान (ID Verification) और उसका पता (Address Verification) का का जानकारी लगाती है|

KYC कस्टमर्स के बारे में जानकारी अपडेट करने की एक सामान्य प्रक्रिया है। KYC Process के द्वारा यह सुनिश्चित किया जाता है कि कोई व्यक्ति कहीं बैंकिंग सेवाओं का दुरुपयोग या गलत इस्तेमाल तो नहीं कर रहा है और KYC Process द्वारा व्यक्ति और उसकी पहचान सुनिश्चित होती है, और वित्तिय संस्थाएँ इस बात से आश्वस्त हो जाती हैं कि आवेदक द्वारा जो भी दस्तावेज दिये गये हैं जानकारी पूरी सही है|

KYC का Full Form क्या होता है|

अपने ग्राहक को जानें (KNOW YOUR CUSTOMER) होता है

आपको बता दे की भारत सरकार ने व्यक्ति की पहचान लिए छ: प्रकार के दस्तावेजों को KYC के लिए प्रमाणित दस्तावेज के तौर पर मान्‍य किया है, जिन्हें व्यक्ति की पहचान का प्रमाण माना गया है। यदि आपने एक बार KYC दस्‍तावेज बैंक में जमा करवा दिए हैं तो वही बैंक आपकी पहचान सुनिश्चित करने के लिए एक समय के बाद दोबारा KYC रिकार्ड अपडेट करने के लिए इन दस्तावेजों की मांग कर सकती है। यह बैंक के अकाउंट की जांच के लिए किया जाने वाला एक लगातार जारी रहने वाला प्रयास है।

इसे भी पढ़े:- Paytm KYC कैसे करें?- पूरी जानकारी हिंदी में

KYC में क्या क्या Document लगता है

आप सोच रहे होंगे की ये KYC Documents की क्या होता है तो हम बताते है, KYC Documents वो Documents होती है जिससें आपकी पहचान की जाती है|

KYC Document में आपका पहचान पत्र, आपका पता, और आपका एक नवीनतम फ़ोटो आता है| भारत सरकार ने हर एक व्यक्ति की पहचान के लिए कई प्रकार के दस्तावेजों को KYC के लिए मान्‍य जारी किया है वो सारे दस्तावेजों का नाम आपको निचे मिल जायेंगे|

  • पैन कार्ड (Pan Card)
  • आधार कार्ड (Aadhaar Card)
  • मतदाता पहचान पत्र (Voter’s Identity Card)
  • पासपोर्ट (Passport)
  • ड्राइविंग लाइसेंस (Driving Licence)

KYC Verification के लिए भारत सरकार ने आधार कार्ड को KYC के लिए आवश्यक दस्तावेज माना है, लेकिन आप Pan Card, Driving License, बिजली का बिल, परिवार राशन कार्ड आदि Documents से भी अपना KYC Verification आप आसानी से करवा सकते है|

KYC क्यू जरुरी होता है?

आपको बता दे की बैंको और वित्तीय संस्थाओं के लिए KYC बहुत जरुरी हो गया है, बैंको और वित्तीय संस्थाओं के लिए KYC का बहुत महत्व हैं, क्योंकि KYC के द्वारा व्यक्ति के आवेदन और उसकी पहचान को सुनिश्चित किया जाता हैं| बैंक और वित्तीय संस्था इस बात को लेकर संतुष्ट हो जाते हैं कि जिस व्यक्ति द्वारा जो भी दस्तावेज दिए गए हैं वो सारे दस्तावेज सही है|

बैंको में ऐसे कई मामले हुए हैं जिसमें धोखाघड़ी और और जालसाजी के द्वारा कई लोगों के बैंक अकाअंट से पैसे निकाल लिए गए। जिससे बैंको को नुकसान भी हुआ और अपनी सुरक्षा को लेकर ग्राहकों को संदेह भी हुआ|

KYC वित्तिय क्षेत्र की एक ऐसी Term है जिससे आवेदक की पहचान हो जाती हैं, और वित्तिय संस्थाएँ इस बात से संतुष्ट हो जाती हैं कि आवेदक द्वारा जो भी दस्तावेज दिये गये हैं, वे सही हैं और भारत सरकार द्वारा प्रमाणित है|

KYC के द्वारा जालसाजी की संभावना कम हो जाती है और इसके साथ ही KYC के द्वारा धोखाघड़ी और जालसाजी को रोका भी जा सकता है, KYC के द्वारा आज पूरी दुनिया में चोरी की पहचान करना, धोकाधड़ी करना, मनी लॉन्ड्रिंग साथ ही साथ और भी बहुत सारी चीजों पर रोक लगाना आसान हो गया है| इसलिए सभी जगह KYC बहुत जरुरीा होता है|

उम्मीद है की आपलोग को KYC के बारे में पूरी जानकारी समझ में आ गया होगा अगर आपको फिर भी कोई कठिनाई हो तो आप हमे कमेंट बॉक्स में आप हमसे पूछ सकते है| आपको ये मेरा पोस्ट अच्छा लगा होतो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों में शेयर कर दे|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here